Followers


Click here for Myspace Layouts

Sunday, September 26, 2010

Forget-me-not .......ਫਾਰਗੈਟ ਮੀ ਨੌਟ......फारगैट मी नॉट












ਸੂਰਜਮੁੱਖੀ ਤੋਂ ਲੈ ਕੇ
ਫਾਰਗੈਟ ਮੀ ਨੌਟ ਤੱਕ
ਸਭ ਹੈ ਕੁਦਰਤ
ਸੁਪ੍ਰੀਤ ਸੰਧੂ ( ਜਮਾਤ ਛੇਵੀਂ)

ਅਨੁਵਾਦ: ਹਰਦੀਪ ਸੰਧੂ
  


सूरजमुखी से ले
फारगैट मी नॉट तक
सब है कुदरत
सुप्रीत संधु ( कक्षा : छठी )

अनुवाद : हरदीप संधु

21 comments:

  1. ਬਿਲਕੁੱਲ ਠੀਕ ਬੇਟੇ ਸੁਪਰੀਤ,ਤੁਸੀਂ ਕਿੰਨੇ ਨੇੜੇ ਹੋ ਕੁਦਰਤ ਦੇ

    ReplyDelete
  2. घट घट में भगवान!!


    सही कहा!!

    सुन्दर!!

    ReplyDelete
  3. सुप्रीत बेटी !आपकी बात सच है । हमारे लिए आप तो हैं सूरजमुखी ! आपका मुख दुनिया भर की खुशियों से हमेशा सूरज की तरह दमकता रहे और बाकी लोगों को भी आपके कामों से खुशी मिलती रहे 1

    ReplyDelete
  4. प्यारी गुड़िया सुप्रीत बेटा जी
    बहुत बहुत आशीर्वाद ! कैसे हो ?

    अरे वाऽऽऽह !
    आप तो मम्मा की तरह इत्ती प्यारी प्यारी कविताएं लिखने लगी हैं अभी से !
    … और इतनी समझ !
    सब है कुदरत
    अर्रे रे रे ! ये तो हमको भी पता नहीं था …

    अच्छा , सच्ची बताओ , मम्मा ने कविता में हेल्प की न ?

    क्या कहा … थोड़ी सी ?
    … एकदम थोड़ी सी ?

    हूंऽऽ चिन्नी सी तो की थी …

    बिलकुल नहीं ?

    बिलकुल नहीं तो … अगली बार अपना प्यारा सा फोटो ब्लॉग पर लगाओगी , तब मानूंगा ।

    फोटो लगाओ या नई कविता लगाओ , मुझे मेल ज़रूर ज़रूर कर देना मेरी प्यारी गुड़िया !

    मेरी फोटो अच्छी नहीं तो भी मैं तुम्हारे ब्लॉग पर लगा कर जा रहा हूं

    बहुत बहुत प्यार …

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  5. इसी कुदरत का करिश्मा हैं आप...... बहुत अच्छा लिख रही हो बेटा। आपकी उम्र से ज्यादा आपके भाव महत्वपूर्ण हैं। जिस समाज में आप जैसे बच्चे भी वक़्त की रहनुमाई करने का हौसला दिखाने लग जायें, उस समाज की ताकत का कुछ तो अनुमान लगाया ही जा सकता है।
    ......... अपना एक फोटो, परिचय और अपनी पाँच-सात पसंदीदा हिन्दी कवितायें या कविताओं का हिन्दी अनुवाद मेरे इ-मेल पर जरूर भेजना। अगले वर्ष मार्च तक "अविराम" पत्रिका का संभावना विशेषांक निकलेगा, उसमें तुम्हारी उपस्थिति अच्छी लगेगी।

    ReplyDelete
  6. यही सोच बनी रहे - शुभ आशीष

    ReplyDelete
  7. बहुत प्यारी हाइकु कविता लिखी है । तस्वीर से मेल खाती हुई । फिर तो हाइगा हुआ न ।
    सच बिटिया बहुत अच्छा लगा ।

    ReplyDelete
  8. वाह !!!!कितनी अच्छी हाइकु.मुझे तो आप से ईर्ष्या हो रही है.लगता है मुझे आपसे ही सीखनी पड़ेगी.सिखाओगी न आप!!!!. ऐसे ही लिखत रहो

    ReplyDelete
  9. ਸੁਪ੍ਰੀਤ ਜੀ ਨੇ ਤਾੰ ਬਹੁਤ ਹੀ ਸੋਹਣਾ ਹਾਇਕੂ ਲਿਖ਼ਿਆ ਹੈ. ਬਿਟਿਯਾ ਨੂੰ ਬਹੁਤ ਸਾਰਾ ਪਿਆਰ. ਜ਼ਿੰਦਰੀ ਵਿੱਚ ਹਮੇਸ਼ਾ ਸ਼ੁਸ਼ੀ ਭਰਿਆੰ ਗੱਲਾੰ ਹੀ ਯਾਦ ਰੱਖੋ. ਏਹੀ ਅਸੀਸ ਹੈ.

    ReplyDelete
  10. Lovely! May every season measure up to your dreams.
    Keep Smiling!

    ReplyDelete
  11. I really Like it princess:)You are Junior Dr.Hardeep Sandhu.
    May god Bless you!

    ReplyDelete
  12. Supreet its awesome.Teen laena vich kina kuck keh dita.I love it.God bless u dear :)

    ReplyDelete
  13. Supreet it is a beautiful Haiku. Thees creations of God are wonderful but they become more beautiful when one see them through your haiku.God bless you.

    ReplyDelete
  14. अरे वाह !
    यह तो बहुत बढ़िया ब्लॉग है!
    --
    बच्चों की सृजनशक्ति को विकसित करने का
    सुन्दर और सार्थक प्रयास है यह!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर और सठिक लिखा है आपने ! तस्वीर बहुत अच्छी लगी!

    ReplyDelete
  16. यूं ही लिखती रहो जी सुंदर सुंदर ..

    ReplyDelete
  17. whoah!!! 20 WHOLE entire comments!!!!! OMG! i can't imagine sooooooooooo many people visit my blog, read my work AND write comments.

    THANKYOU!!!!

    Supreet :D

    ReplyDelete